Connect with us

LETEST NEWS

CAA , NRC की जरुरत क्यू है जानिए!

Published

on

nrc-caa

भारत में नागरिकता संशोधन कानून को लेकर विरोध हो रहा है. NRC को लेकर विवाद जारी है. लेकिन इससे इधर असम और पश्चिम बंगाल से लगी बांग्लादेश सीमा पर हलचल पड़ गई. असम और बंगाल में हाल के समय में आए सैकड़ों बांग्लादेशी नागरिक किसी भी तरह वापस अपने देश लौटने की कोशिश में लगे हुए हैं.

खुफिया एजेंसियों के अफसरों का कहना है कि पिछले 1 साल में 5000 ऐसे बांग्लादेशी लापता है. जो बाकायदा मानने दस्तावेज और पासपोर्ट के साथ भारत आए थे. I B ने इनके बारे में एमिटेशन एयरपोर्ट प्राधिकरण और सीमा पर तैनात अफसरों से भी पता किया. लेकिन उनकी कोई सूचना उनके पास नहीं है.

साउथ बेंगल फ्रंटियर की सीमा सुरक्षा बल के आई जी वाय पी राडिया ने इसकी पुष्टि की थी और कहा था कि BSF ने ऐसे 268 बांग्लादेशियों को सीमा पार करने की कोशिश करते हुए पाया है.

इससे पहले जनवरी के पहले हफ्ते में भी बीजेपी प्रमुख मेजर जनरल शफीउल इस्लाम ने दिल्ली में कहा था. कि दिसंबर में ऐसे 445 बांग्लादेशियों को भारत सीमा पार करते हुए पकड़ा गया था. यह लोग किसी भी तरह अपने देश वापस जाने की कोशिश में लगे हुए थे.

उन्होंने बताया कि अकेले जनवरी में अब तक 268 बांग्लादेशी वापस अपने देश जाने की कोशिश करते पाए गए हैं. उधर रसम के फोन गांव में एक बीएसएफ अधिकारी ने बताया कि एन आर सी के डर से पिछले 5 से 12 सालों से बाहर रहे बांग्लादेशियों को वापस लौटने की कोशिश करते पकड़ा गया.

NRC और CAA के मुद्दे पर अपने पुराने बयान को दोहराते हुए बीजेपी ने कहा था. कि यह पूरी तरह भारत सरकार का आंतरिक मामला है. बांग्लादेश ने इस बात को दोहराया था कि वह अपने नागरिकों को वापस अपने वतन बुलाएगा. जिसके लिए उसने सरकार से भारत में रह रहे बांग्लादेशी नागरिकों की सूची मांगी.

बीएसएफ सीमा पार से घुसपैठ को रोकने के लिए लगातार पेट्रोलिंग करती रहती है. उसके साथ ही बीएसएफ पुराने कटीले तारों के बाड़ को हटाने और उनकी जगह मजबूर नई फेंसिंग लगा रही है. कई जगह पुरानी पहाड़ को फेंसिंग से रिप्लेस भी किया जा चुका है. उनके आधुनिक लगाई गई है. भारत की सीमाओं को सुरक्षित रखने के लिए.

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Trending